Saturday, May 25, 2024
HomeGT एक्सक्लूसिवरोहतक में वनडे वर्ल्डकप में सट्टा लगाते हुए गिरफ्तार हुआ था सचिन,...

रोहतक में वनडे वर्ल्डकप में सट्टा लगाते हुए गिरफ्तार हुआ था सचिन, गैंगस्टर के पोस्ट की पड़ताल कर रही पुलिस

- Advertisment -
- Advertisment -

रोहतक। रोहतक के लाखनमाजरा स्थित हरपुंज ढाबे पर हुए गुरुग्राम के स्क्रैप व्यापारी सचिन की हत्या का मामला पुलिस के लिए सिरदर्द बन गया है। कल पोस्टमार्टम से पहले ही गैंगस्टर रोहित गोदारा के नाम से सोशल मीडिया पर डाली गई पोस्ट में सचिन को बुकी बताया गया था। इस बीच पुलिस रिकॉर्ड में सचिन के खिलाफ रोहतक के सदर थाने में अक्तूबर 2023 में गैंबलिंग एक्ट व धोखाधड़ी का मामला दर्ज पाया गया है। अब पुलिस गैंगस्टर के नाम से डाली गई पोस्ट की पड़ताल कर रही है। गुरुग्राम पुलिस से भी रिकाॅर्ड मांगा जा रहा है।

पुलिस रिकाॅर्ड के मुताबिक, अपराध जांच शाखा प्रथम ने अक्तूबर 2023 में रोहतक के सिसरौली गांव निवासी सतबीर के मकान पर छापा डाला था। पुलिस ने यहां से गुरुग्राम के प्रताप नगर निवासी समीर चौधरी, अर्जुन नगर निवासी सचिन, शिवपुरी निवासी तरुण, माडल टाउन निवासी मोहित बत्रा व सुधीर, मदनपुरी निवासी गौरव, मदनपुरी निवासी साहिल और रोहतक जिले के गांव शिमली निवासी अमित व जनता कॉलोनी निवासी सुनील कुमार को पकड़ा था।

ये सभी आरोपी वनडे वर्ल्डकप के श्रीलंका व पाकिस्तान मैच में सट्टा लगाते पाए गए थे। मौके से लैपटॉप, मोबाइल फोन से अटैच की गई लाइन मिली थी। सभी आरोपी मोबाइल फोन से मैच का मोल-भाव करते पकड़े गए थे। पुलिस ने मौके से 35 मोबाइल, सिम, लैपटॉप, डिस टीवी सैट बॉक्स, 2 लाइन अटैची जिसमें माइक व मोबाइल चार्जर पिन थी। तीन रिकाॅर्डर, एक वाईफाई सैट, चार्जर सहित करीब 7 लाख की कीमत का सामान बरामद किया था। आरोपियों को फर्जी आईडी पर सट्टा लगाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

वारदात स्थल से कारतूस से 25 खोल बरामद

डीएसपी महम व सीआईए की टीम कल घटनास्थल पर पहुंची। होटल की सीसीटीवी फुटेज की जांच की। साथ ही परिजनों से बातचीत की। उस समय तक सोशल मीडिया पर गैंगस्टर रोहित गोदारा के नाम से पोस्ट आ चुकी थी। इसके बाद परिजन व पुलिस करीब 12 बजे पीजीआई के डेड हाउस पहुंचे। पीजीआई के डॉक्टरों के बोर्ड से शव का चार घंटे पोस्टमार्टम चला। पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी करवाई गई। मृतक को 10 से 15 गोली मारी गई थी। शरीर के अंदर से चार गोली के सिक्के भी निकाले गए। इसके अलावा पुलिस ने घटनास्थल से कारतूस के 25 खोल बरामद किए।

मृतक से करोड़ों की मांगी जा रही थी रंगदारी

पुलिस का कहना है कि दो माह से सचिन को रंगदारी के लिए फोन आ रहे थे। उसे जान से मारने की धमकियां मिल रही थी। शुक्रवार को पीजीआई के डेड हाउस में बाहर पुलिस व परिजन मीडिया से बातचीत करने से बचते नजर आए। सचिन के भाई अमित ने केवल इतना कहा कि उसका भाई बुकी नहीं था। वह स्क्रैप व्यापारी के साथ-साथ प्रॉपर्टी डीलर था। उसकी हत्या करने वालों को गिरफ्तार किया जाए।

लाखनमाजरा थाना प्रभारी सुरेश ने बताया कि गुरुग्राम के व्यापारी सचिन की हत्या के मामले में पुलिस लगातार छानबीन कर रही है। इसके लिए पुलिस की 4 अलग-अलग टीमें बनाई हुई हैं। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। घटनास्थल व आसपास में भी लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला जा रहा है। प्राथमिक जांच के अनुसार लग रहा है कि आरोपियों ने पीछा करके इस हत्याकांड को अंजाम दिया है। थाना लाखनमाजरा एएसआई संदीप कुमार ने कहा कि सोशल मीडिया पर एक पोस्ट मिली है, लेकिन उसकी सत्यता के कोई सबूत नहीं मिले हैं। फिलहाल पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है।

कारोबारी 3 बहनों का इकलौता भाई था

मृतक कारोबारी सचिन 3 बहनों का इकलौता भाई था। उसके 2 बेटे हैं। सचिन की माँ दर्शना ने बताया कि इस हत्याकांड के पीछे जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेन्स बिश्नोई का हाथ है। उसने सचिन से करोड़ों की रंगदारी मांगी थी। पैसे नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी गई थी। करीब 6 से 8 महीने पहले फोन करके रंगदारी की मांग की गई थी और धमकियां दी गई थीं। सचिन के दोस्त दीपक ने बताया कि करीब तीन-चार साल पहले उसके पार्टनर की भी इसी तरह गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी। इसके बाद वह पुलिस के पास भी सुरक्षा मांगने के लिए गया। धमकी मिलने के बाद काफी समय तक सचिन घर पर ही रहा। उसने डर के मारे अपने मोबाइल नंबर भी बदल लिए थे।

- Advertisment -
RELATED NEWS
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular