Tuesday, June 25, 2024
Homeपंजाबश्री हेमकुंट साहिब के खुले कपाट, पंज प्यारों के नेतृत्व में पहला...

श्री हेमकुंट साहिब के खुले कपाट, पंज प्यारों के नेतृत्व में पहला जत्था रवाना

- Advertisment -
- Advertisment -

आज से श्री हेमकुंट साहिब की यात्रा शुरू हो गई है। शुक्रवार को गोविंदघाट गुरुद्वारा साहिब से पंज प्यारों के नेतृत्व में सिख तीर्थयात्रियों का पहला जत्था भारी पुलिस सुरक्षा, बैंड बाजे और पवित्र प्रतीकों के साथ श्री हेमकुंट साहिब के लिए रवाना हुआ।

जत्था आज सुबह हेमकुंट साहिबा के लिए रवाना हुआ। ‘बोले सो निहाल, सत श्री अकाल’ के जयकारों के साथ आज सुबह 9:30 बजे श्री हेमकुंट साहिब के कपाट आम जनता के लिए खोल दिए गए हैं। उत्तराखंड के पांचवें धाम के नाम से प्रसिद्ध विश्व प्रसिद्ध हेमकुंट साहिब की यात्रा को सुविधाजनक बनाने के लिए प्रशासन और गुरुद्वारा कमेटी द्वारा श्री हेमकुंट साहिब में तीर्थयात्रियों के लिए सभी व्यवस्थाएं की गई हैं।

सप्त श्रृंग पर्वत श्रृंखला के बीच 4,632 मीटर की ऊंचाई पर स्थित सिखों का पवित्र मंदिर 18 किमी की कठिन चढ़ाई के बाद पैदल पहुंचा जाता है। सेना के जवानों ने हेमकुंट साहिब यात्रा मार्ग से बर्फ हटाकर यातायात सुचारु कर दिया है। धाम में अभी भी कई फीट बर्फ जमा है।

पूर्व सीएम चन्नी ने पीएम मोदी की रैली को बताया फ्लॉप, जालंधरवासियों के लिए घोषणा पत्र जारी

श्री हेमकुंट साहिब के कपाट खुलने के साथ ही भ्यूंडार घाटी का गुरु अस्थान मार्ग श्रद्धालुओं के आगमन से गुलजार हो गया है। इस बीच, श्री हेमकुंट साहिब जी के भक्तों के पहले जत्थे में शामिल सिख संगतों में भारी उत्साह था। सभी संगतें गुरु गोबिंद सिंह जी के प्रति अपार श्रद्धा और विश्वास के साथ लोकपाल घाटी की कठिन पहाड़ियों को पार करती नजर आईं।

इसके साथ ही तीर्थयात्रियों के आगमन से लोकपाल घाटी में सर्दियों के दौरान शाम का सन्नाटा भी टूट गया है। भ्यूंडार घाटी में उत्सव जैसा माहौल है। श्री हेमकुंट साहिब गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के वरिष्ठ प्रबंधक सरदार सेवा सिंह ने सभी श्रद्धालुओं से गुरु आस्था के मार्ग पर चलते हुए शांतिपूर्ण माहौल बनाने के लिए गुरु धाम पहुंचकर गुरु महाराज का आशीर्वाद लेने की अपील की है।

- Advertisment -
RELATED NEWS
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular