Saturday, March 2, 2024
Homeहरियाणारोहतकरोहतक में पंचायतों ने उठाई सैनिक स्कूल बनाने की मांग, सांसद को...
- Advertisment -

रोहतक में पंचायतों ने उठाई सैनिक स्कूल बनाने की मांग, सांसद को लिखा पत्र

- Advertisment -

रोहतक। रोहतक के महम क्षेत्र में सैनिक स्कूल की मांग जोर पकड़ने लगी है। अब विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली पंचायतों ने जनप्रतिनिधियों को इस मुद्दे पर पत्र लिखने शुरू कर दिए हैं। अब तक करीब 12 गांव की पंचायत लोकसभा सांसद अरविंद शर्मा व राज्यसभा सदस्य रामचंद्र जांगड़ा को महम इलाके में सैनिक स्कूल बनवाने की मांग करते हुए पत्र लिख चुकी हैं। लोगों की मांग हैं कि सेना की जमीन महम में होने के चलते इस प्रोजेक्ट को आसानी से सिरे चढ़ाया जा सकता है।

सैनिक स्कूल बनवाने की मांग के समर्थन में 12 ग्राम पंचायतें खड़ी हो गई है। वहीं महम के पार्षद और ब्लॉक समिति के चेयरमैन ने भी राज्यसभा सदस्य को पत्र लिखकर सैनिक स्कूल खोलने की मांग की। महम में सैनिक स्कूल खोलने की मांग सामाजिक कार्यकर्ता राकेश भारद्वाज ने रखी थी। इसके बाद ग्राम पंचायतें भी आगे आई और महम में सैनिक स्कूल खोलने के लिए पत्र लिखा।

महंत सतीश दास, सैमाण डेरा।

दूसरी ओर महम में सैमाण गांव के सतगुरु मंदिर डेरे ने भी सैनिक स्कूल प्रोजेक्ट के लिए अपनी जमीन मुफ्त देने का एलान किया है। डेरा प्रबंधन का कहना है कि अगर सैनिक स्कूल के लिए जमीन की कोई समस्या आती है तो उनकी ओर से सैमान तपा में सैनिक स्कूल बनाने के लिए नियम अनुसार साढ़े आठ एकड़ जमीन दान देने के लिए तैयार हैं। डेरे के गद्दीनशीन महंत सतीश दास ने बताया कि डेरे की जमीन गांव सैमाण, भैणी सुरजन, भैणी भैरो व बेडवा गांव में है। जहां पर भी नियमानुसार सही लगे उसी गांव में सैनिक स्कूल बनाने के लिए जमीन दे सकते हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता राकेश भारद्वाज ने कहा कि महम में करीब 28 एकड़ जमीन है। इस पर फिलहाल कूड़ा पड़ रहता है ओर उसे डंपिंग पाॅइंट बनाया गया है। वहीं जिले में कोई भी सैनिक स्कूल नहीं है। इसलिए इस जमीन पर सैनिक स्कूल बनाया जाए। ताकि यहां के लोगों को फायदा हो सके। इस मांग को लेकर ग्राम पंचायतों, पार्षद, व बीडीसी सदस्य ने राज्यसभा सदस्य रामचंद्र जांगड़ा के नाम पत्र लिखा है। पत्र में मांग की गई है। जिसमें लिखा गया है कि काफी दूर तक कोई भी सैनिक स्कूल नहीं हैं। बच्चों के भविष्य के लिए सैनिक स्कूल बनाया जाए। ग्राम पंचायतों द्वारा मांग उठाने के बाद सैनिक स्कूल का मुद्दा सुर्खियों में आ गया है।

सरपंचों ने डेरे के फैसले को बताया सराहनीय

महम क्षेत्र के लगभग एक दर्जन ग्राम पंचायतों के सरपंचों ने महंत सतीश दास द्वारा सैनिक स्कूल के लिए जमीन दिए जाने वाले बयान को सराहते हुए कहा कि बच्चों के भविष्य को संवारने में महन्त सतीश दास ने बहुत ही साहसिक कदम उठाया है। महत सतीश दास ने कहा कि उनकी प्राथमिकता है की सैमान तपा के साथ- साथ महम हलके के हर गांव के बच्चों को फायदा हो। उनका मकसद बच्चों के भविष्य को संवारना है। इस मांग को पूरा करवाने के लिए वे स्वयं राज्यसभा सांसद रामचन्द्र जांगड़ा व लोकसभा सांसद अरविंद शर्मा को पत्र लिखेंगे।

महम के पार्षद एवं पूर्व प्रधान शैंकी गिरधर एवं ब्लॉक समिति के चेयरमैन नवनीत राठी ने बताया कि अगर इस खाली जमीन पर सैनिक स्कूल बनता है तो बच्चे अनुशासित बनेंगे। इसके साथ ही बच्चों के अनुशासित होने से समाज में इस समय जो नशे जैसी कुरीतियां हावी हो रही है उनसे भी बचाव होगा। सांसद को सैनिक स्कूल की मांग को लेकर पत्र लिखने वालों में भैणी मातो, भैणी सुरजन, भैणी चंद्रपाल, बलंभा पानड़ी, बलंभा बाजान, बलंभा खास, बलंभा बुचान, सैमाण, सैमाण पाना टोडर, फरमाणा खास, बेड़वा की ग्राम पंचायतें शामिल रही।

- Advertisment -
- Advertisment -
RELATED NEWS
- Advertisment -

Most Popular