Saturday, May 25, 2024
Homeस्वास्थ्यAC Side Effects: अगर आप रातभर एसी चलाकर सो रहे हैं तो...

AC Side Effects: अगर आप रातभर एसी चलाकर सो रहे हैं तो हो जाएं सावधान! जानें- शरीर पर क्या पड़ता है प्रभाव

- Advertisment -
- Advertisment -

Health News : प्रतिदिन गर्मी का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। कुछ लोग ऐसे होते हैं जो चौबीसों घंटे एसी में ही रहते हैं। कुछ लोग दिन के अलावा रात को चैन की नींद के लिए रातभर एसी चलाकर सो रहे हैं। अगर आप भी रातभर एसी चलाकर सोते हैं तो गर्मी से राहत पाने का आपका ये तरीका आपके स्वास्थ्य को कई तरह से नुकसान पहुंचा सकता है।

एसी में सोने से आप को गर्मी और उमस से राहत मिल सकती है लेकिन यह कुछ स्वास्थ्य जोखिम भी पैदा कर सकता है। इस संबंध में हेल्थ विशेषज्ञों दी गई और कुछ समस्याओं के बारे में जानते हैं।

  • हेल्थ विशेषज्ञों के मुताबिक, देर एसी में रहने से बहुत सी बीमारियां शरीर में घर कर जाती  है। आप रातभर AC में सोते हैं तो एसी की सीधी हवा आपके सिर पर आती है। ऐसी स्थिति में सुबह जब आप नींद से उठें, तो आपको सिरदर्द और सिर में भारीपन भी महसूस हो सकता है। वहीं एसी में रातभर सोने के कारण सर्दी-जुकाम भी हो सकता है। रात के समय में आपका शरीर निष्क्रिय अवस्था में होता है। ऐसी अवस्था में, ठंड आसानी से लग सकती है।
  • एसी में रातभर सोने से स्किन को भी नुकसान पहुंचता है। डाक्टरों की मानें, एसी कमरे की हवा को सोख लेता है। जहां आप सो रहे हैं, वातवारण में अगर हवा मौजूद न हो, तो इससे स्किन पर बुरा प्रभाव पड़ता है। रातभर एसी में सोने के कारण शरीर डिहाइड्रेट भी हो सकती हैं
  • ज्यादा देर ऐसी में सोने की वजह से आपको कंजेशन हो सकता है। इस वजह से आपको सांस से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। एसी चालू करके सोने से संवेदनशील व्यक्तियों में एलर्जी बढ़ सकती है। बार-बार छींक आना, नाक बंद होना, नाक बहना और आंखों में खुजली जैसे लक्षण पैदा हो सकते हैं।
  • ज्यादा देर एसी में रहने की वजह से आप मोटापे के भी शिकार हो सकते हैं। दरअसल जब आप एसी में रहते हैं तो आपके शरीर की ऊर्जा खर्च नहीं होती जिस वजह से चर्बी बढ़ने लगती है। एसी में ज्यादा देर सोने की वजह से आपकी इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है। आप आसानी से संक्रमण की चपेट में आ जाते हैं।
  • वहीं रातभर एसी चलाकर सोने से अगले दिन आपको मांसपेशियों में अकड़न और जोड़ों में दर्द महसूस हो सकता है। ठंडे तापमान के कारण मांसपेशियां सिकुड़ सकती हैं और उनमें कसाव आ सकता है, जिससे अकड़न और असुविधा हो सकती है। इसके अतिरिक्त, ठंडी हवा गठिया या अन्य मस्कुलोस्केलेटल स्थितियों वाले व्यक्तियों में जोड़ों के दर्द और कठोरता को बढ़ा सकती है।

इन बातों का ख्याल रखना जरूरी है

  • एसी का कम इस्‍तेमाल करें। कभी भी AC का तापमान 16-17 डिग्री पर न रखें
    एसी चलाते समय तापमान 24 डिग्री तक रखें
  • AC में रहने के बाद पर जब तक शरीर का टेम्प्रेचर नॉर्मल न हो, तब तक बाहर न निकलें।
  • दिन में कुछ समय के लिए कमरे के खिड़की दरवाजे जरूर खोलें।
  • पानी भरपूर पीएं और नहाने से पहले शरीर की ऑयल से मसाज करें।
  • धूप से आने के बाद सीधे हाई टेम्प्रेचर AC वाले रूम में न बैठें।

यह लेख-केवल सामान्य जानकारी के लिए है। गरिमा टाइम्स इसकी पुष्टि नहीं करता। 

- Advertisment -
RELATED NEWS
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular