Tuesday, June 25, 2024
Homeदेशखस्ता हुई स्पाइसजेट एयरलाइन की आर्थिक स्थिति, 1400 कर्मचारियों को नौकरी से...

खस्ता हुई स्पाइसजेट एयरलाइन की आर्थिक स्थिति, 1400 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

- Advertisment -
- Advertisment -

नई दिल्ली। एविएशन सेक्टर की दिग्गज कंपनी स्पाइसजेट (SpiceJet) में नकदी संकट का असर गहराता हुआ दिख रहा है। इस अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कई महीनों से कर्मचारियों की सैलरी में देरी के बाद अब एयरलाइन कंपनी में बड़ी छंटनी (Layoff) हो रही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी ने अपने कुल 15% वर्कफोर्स में कटौती का फैसला किया है। एयरलाइन में फिलहाल लगभग 9,000 कर्मचारी काम कर रहे हैं और इसमें 15 फीसदी की कटौती की जा रही है। ये आंकड़ा करीब 1400 कर्मचारियों का होता है। ईटी की रिपोर्ट के मुताबिक, बजट एयरलाइंस ने कथित तौर पर छंटनी (Spicejet Layoff) की पुष्टि कर दी है और इस कदम को परिचालन जरूरतों के अनुरूप उठाया गया करार दिया है।

क्यों की गई छंटनी की तैयारी?

वित्तीय संकट से जूझ रही स्पाइसजेट एयरलाइंस ने कंपनी के ऊपर इन्वेस्टर्स दिलचस्पी बनाए रखने और नकदी की कमी को पूरा करने के मद्देनजर कॉस्ट कटिंग का फैसला लिया है। रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी कुछ निवेशकों से 2,200 करोड़ रुपये के कैपिटल इंफ्यूजन की प्रक्रिया में है। एयरलाइन ने कहा कि फंडिंग प्रोजेक्ट्स पटरी पर हैं और जल्द ही घोषणा होने की उम्मीद है।

लागत कम करने के लिए उठाया कदम

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट में बताया गया कि कंपनी की ओर से ऑपरेशन जरूरतों के हिसाब से ये कटौती की गई है। एयरलाइन मौजूदा समय में 60 करोड़ रुपये प्रति महीने की सैलरी दे रही है। इससे पहले कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि स्पाइसजेट की ओर से पिछले कई महीनों से सैलरी के भुगतान में देरी की जा रही थी। बता दें, स्पाइस जेट निवेशकों से 2200 करोड़ रुपये का फंड जुटाने के प्लान पर काम कर रहा है। वहीँ एयरलाइन की ओर से कहा गया कि कंपनी के फंड जुटाने के सभी प्लान ट्रेक पर है और जल्द ही इसके बारे में सूचना दी जाएगी।

कर्मचारियों की सैलरी में लगातार देरी

रिपोर्ट के मुताबिक, नकदी की कमी के चलते बीते कुछ समय से स्पाइसजेट में काम करने वाले कर्मचारियों को सैलरी मिलने में भी देरी हो रही थी। एयरलाइन के कर्मचारियों का वेतन बिल 60 करोड़ रुपये हो रहा है। ये एक बड़ा कारण है कि कंपनी स्थिति में सुधार करने के लिहाज के लागत को कम करने का हरसंभव प्रयास कर रही है। ये 1400 कर्मचारियों की छंटनी इसी दिशा में उठाया जा रहा कदम है।

118 विमानों का बेड़ा 30 तक सीमित

Spicejet में सैलरी संकट पर नजर डालें, तो कर्मचारियों को कई महीनों से वेतन देरी के मिल रहा है और जनवरी महीने की सैलरी अभी तक कर्मचारियों के अकाउंट में क्रेडिट नहीं हो सकी है। साल 2019 में बजट एयरलाइंस स्पाइसजेट बुलंदियों पर थी और इसके बेड़े में 118 विमान थे, जबकि कर्मचारियों की संख्या 16,000 से ज्यादा था। लेकिन फिलहाल की बात कें तो कंपनी में वर्कफोर्स घटकर 9,000 रह गया है और अब कंपनी महज 30 विमान संचालित कर रही है, इसमें से 8 विमानों को कंपनी द्वारा विदेशी एयरलाइन से क्रू और पायलट्स के साथ लीज पर लिया हुआ है। मौजूदा समय में हाल ही में अकासा एयरलाइन स्पाइसजेट की सबसे निकटतम प्रतिद्वंदी है।

छंटनी की खबर का शेयर पर असर

स्पाइसजेट एयरलाइंस में बड़े पैमाने पर छंटनी की खबर का असर कंपनी के शेयरों पर भी दिखाई दिया है। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन सोमवार को शेयर बाजार बड़ी गिरावट देखने को मिली। बीएसई का Sensex 523 अंक टूटकर 71,072.49 के लेवल पर क्लोज हुआ। वहीं एनएसई का Nifty 166 अंक की गिरावट के साथ 21,616.05 के स्तर पर क्लोज हुआ। बाजार में गिरावट के बीच Spicejet Share 4.18 फीसदी फिसलकर 65.33 रुपये पर बंद हुआ. 4470 करोड़ रुपये मार्केट वैल्यू वाली एयरलाइन कंपनी का शेयर सुबह 9.15 बजे पर 68.50 रुपये पर खुला और कारोबार के दौरान 65 रुपये के निचले स्तर तक गया।

- Advertisment -
RELATED NEWS
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular