रोहतक पुलिस का ऑटो चालक मर्डर केस में खुलासा

रोहतक। रोहतक पुलिस की सीआईए-1 स्टाफ ने गत दिनों गांव सिंहपुरा ड्रैन नम्बर-8 के अंदर मिली ऑटो चालक की लाश की गुत्थी सुलझाने में सफलता हासिल की है। ब्लाईंड मर्डर केस में पुलिस ने गहनता से जांच करते हुए हत्या की वारदात में शामिल एक आरोपी को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है।

गौरतलब है कि दिनांक 23.02.18 को गांव सिंहपुरा ड्रैन नम्बर-8 में एक युवक की लाश मिली। जांच में युवक की पहचान ऑटो चालक गांव निदाना (जिला रोहतक) हाल सूर्य कालोनी रोहतक निवासी प्रवीन पुत्र ओमप्रकाश के रुप में हुई है। पुलिस ने थाना सदर में अभियोग संख्या 104/18 धारा 302,201 भा.द.स. के तहत अंकित कर जांच शुरु कर दी।

सीआईए-1 में प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए पुलिस अधीक्षक पंकज नैन ने बताया कि ब्लाईंड मर्डर केस की जांच प्रभारी निरीक्षक नवीन कुमार के नेतृत्व में सीआईए-1 स्टाफ को सौंपी और एक विशेष टीम स.उप.नि. सुशील कुमार व स.उप.नि. विनोद कुमार के नेतृत्व में गठित की गई। इस दौरान तफतीश हर पहलुओं पर बारिकी से जांच पड़ताल की गई। कुछ संदिग्घ युवकों को संदेह के आधार पर शामिल जांच करके पूछताछ की गई।

यह भी पढ़ें:  हरियाणा कांग्रेस गुटबाजी पर दीपेंद्र हुड्डा का बयान

जांच में सामने आया कि सूर्य कालोनी निवासी अजय हत्या की वारदात में शामिल रहा है। दिनांक 13/14 मार्च को छापेमारी करते हुए विशेष टीम ने सूर्य कालोनी निवासी अजय पुत्र सुभाष को जीन्द चौक रोहतक से काबू किया है।

जांच में पाया गया कि प्रवीन व अजय करीब एक साल से दोस्त है और सूर्य कालोनी रोहतक में दोनो के मकान भी आस-पास है तथा दोनों ऑटो चलाने का कार्य करते है। फिलहाल अजय के पास कोई काम धंधा न होने के कारण, प्रवीन ने अजय को अपने ऑटो पर ही लगा लिया था। जो दिनांक 20/21 फरवरी की रात को प्रवीन व अजय ने सूर्य कालोनी स्थित अजय के मकान पर बैठकर शराब का सेवन किया।

शराब पीने के बाद ऑटो से कमाए पैसे के बंटवारे को लकर दोनों का आपस में झगड़ा हो गया। झगड़े के दौरान ही अजय ने अपने दोस्त कृष्ण पुत्र वेदपाल निवासी शास्त्री नगर रोहतक को बुला लिया। जो दोनों ने मिलकर प्रवीन के हाथ पैर बांध दिए और दोनों ने प्रवीन के मुँह पर कपड़ा डालकर गले में कपड़े की रस्सी से गला घोटकर प्रवीन की हत्या कर दी।

यह भी पढ़ें:  निशाने पर हम, कुछ तो म्हारे में भी होगा दम

हत्या करने के बाद अजय ने प्रवीन की लाश को उसी की ऑटो में डालकर गांव सिंहपुरा ड्रैन नम्बर-8 में फैक दिया और ऑटो को ले जाकर गोहाना रोड़ पर मकड़ौली टोल प्लाजा से आगे लावारिस हालत में छोड़ दिया था।