भाजपा में आते ही इंसान पवित्र हो जाता है

नई दिल्ली। हरियाणा के सियासी गलियारों में एक बार फिर नया मामला गरमाता दिख रहा है। कभी कांग्रेस पर आरोप लगाने वाली भाजपा अब अपने एक दाव से खुद फंसती दिख रही है। लेफ्टिनेंट जनरल डीपी वत्स को राज्यसभा सीट का उम्मीदवार बनाकर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर सरकारी नौकरियों में भेदभाव और खरीद फरोख्त का आरोप लगाने वाले मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और उनकी कैबिनेट के मंत्री सहित भाजपा अपने आरोपों में फंस गई है।

ऐसा इसलिए क्योंकि लेफ्टिनेंट जनरल डीपी वत्स ही हुड्डा सरकार में हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन के चेयरमैन थे। अगर भाजपा सरकार पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर सरकारी नौकरियों की खरीद फरोख्त व भेदभाव का आरोप लगाती है तो उसमें डीपी वत्स भी शामिल है। आज यहीं डीपी वत्स भाजपा सरकार को ईमानदार नजर आ रहे हैं।

हुड्डा ने हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन में डीपी वत्स को चेयरमैन लगाकर प्रदेश के लोगों को ईमानदारी और मेरिट के आधार पर नौकरी देने का काम नहीं किया था, ऐसे आरोप अक्सर भाजपा लगाता रहा हैं लेकिन अब वहीं भाजपा कुछ और ही करती दिख रही है। गत दिवस अपने विवादित बयानों के लिए अक्सर सुर्खियों में रहने वाले समाजवादी पार्टी के नेता नरेश अग्रवाल भी भाजपा में शामिल हुए। चूंकि अब वो भाजपा में आ गए है ऐसे में उनके सारे पाप धुल गए है। एक तरीके से कहा जाए तो भाजपा में आते ही हर कोई पवित्र हो जाता है।

यह भी पढ़ें:  चौटाला का बड़ा ऐलान